सांवरिये की लाठी में आवाज़ कभी ना आएगी,
सब दरवाजे बंद मिलेंगे जिस दिन ये पड़ जाएंगी,
सांवरिये की लाठी में…..

तुझ से अच्छा कोई नहीं है दर पे दिखावा करता है,
धीरे धीरे घड़ा पाप का इस दुनिया में भरता हे,
जितनी भी तू अकडं दिखालें,
जितनी भी तू अकडं दिखालें धरी यही रह जाएगी,
सब दरवाजे बंद मिलेंगे जिस दिन ये पड़ जाएंगी,
सांवरिये की लाठी में…..

स्वार्थ में तू अंधा हो कर भूल गया रिश्ते नाते,
समझ में आती है बस तुझको अपने मतलब की बातें,
चाहे जितनी जोड़ ले दौलत,
चाहे जितनी जोड़ ले दौलत धरी यही रह जाएगी,
सब दरवाजे बंद मिलेंगे जिस दिन ये पड़ जाएंगी,
सांवरिये की लाठी में….

खाटू वाले के खातिर तो प्रेमी सभी बराबर है,
एक तराजू सबको तोलें नजर श्याम की सब पर हे,
जैसा भाव लाएं सांवरिया,
जैसा भाव सचिन लाए वैसी झोली भर जाएंगी,
सब दरवाजे बंद मिलेंगे जिस दिन ये पड़ जाएंगी,
सांवरिये की लाठी में,
बोलो श्याम बोलों श्याम श्याम श्याम श्याम…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह