कोई शुभ काम हो सब से पेहले गणेशा को हम सब मनाये,
रीती देव ने इसकी चलाई इस रीती को हम सब निभाये
कोई शुभ काम हो सब से पेहले गणेशा को हम सब मनाये,

वक्तुंरड अंकुश कर धारी
मुस्क की करते है सवारी
लम्बोदर को मोदक है भाये
भाव से इनको खिलाये
कोई शुभ काम हो सब से पेहले गणेशा को हम सब मनाये,

रिधि सीधी के है ये स्वामी शुभ और लाभ के अन्तर्यामी यामी
विगन वादा हरे गोरी नंदन रोली चन्दन जो इनको चडाऐ,
कोई शुभ काम हो सब से पेहले गणेशा को हम सब मनाये,

तुम सा दयालु देव न दूजा प्रथम हो जग में इनकी पूजा,
गाये प्रामोद इनकी महिमा पदमें पंकज भी प्रीत लगाये,
कोई शुभ काम हो सब से पेहले गणेशा को हम सब मनाये,

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती

संग्रह