मंदिर में ढोलक बाजे ढोलक पे गणपति नाचे,
धीरे धीरे नाचो रे गणेश ये दुनिया देख रही….

ताम्बे का कलसा ठंडा सा पानी,
धीरे धीरे नहाओ रे गणेश ये दुनिया देख रही.

बड़े प्यार से मोदक बनाया,
धीरे धीरे खाओ रे गणेश ये दुनिया देख रही……..

सोने का लोटा निर्मल पानी,
धीरे धीरे पियो रे गणेश ये दुनिया देख रही……

चुन चुन दूर्वा माला बनाई,
धीरे धीरे पहनो रे गणेश ये दुनिया देख रही……

छोटा सा प्यारा सा मंदिर बनाया,
धीरे धीरे आओ रे गणेश ये दुनिया देख रही….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह