सो रहे पार्वती के लल्ला,
हे री सखी कोई ना मचाईओ हल्ला,
सो रही पार्वती के लल्ला….

केसर चंदन इनके मन को ना भावे,
रोली देख कर खुश हुए लल्ला,
सो रहे पार्वती के लल्ला….

मोतियन माला मन को ना भावे,
दूब घास देख खुश हुए लल्ला,
सो रहे पार्वती के लल्ला…..

धोती कुर्ता इन के मन को ना भावे,
ओढ़न को मांग रहे है दुशाला,
सो रहे पार्वती के लल्ला…..

हाथों में कंगना इनके मन को ना भावे,
पैरन को मांग रहे उंगली में छल्ला,
सो रहे पार्वती के लल्ला….

बर्फी पेड़ा इनके मन को ना भावे,
खाने को मांग रहे हैं रसगुल्ला,
सो रहे पार्वती के लल्ला….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह