बीच भंवर में नैया मेरी,
गुड़गुड गोते खाये,
तारणहार तुम्ही हो भगवन मेरे,
भला और कौन पार लगाये…

हरते हो विघ्न सभी के,
बिगड़ी देते हो बनाये,
कष्टों के मेरे भी निवारण का,
करो प्रभु जी कुछ उपाय,
तारणहार तुम्ही हो भगवन मेरे,
भला और कौन पार लगाये….

सर पे धर दो हाथ प्रभु जी,
दो थोड़ा प्यार जताये,
दुखियारे बेचारे शरणागत को,
दुखियारे बेचारे राजीव को,
भगवन मेरे रहे हो क्यूं सताये ,
तारणहार तुम्ही हो भगवन मेरे,
भला और कौन पार लगाये…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह