मैंने तेरे भरोसे हनुमान नाव पानी में छोड़ दई,
नाव पानी में छोड़ दई, नाव पानी में छोड़ दई…..

काहे की नाव बनाई,
काहे की पतवार बनाई,
काहे की जंजीर नाव पानी में छोड़ दई….

लकड़ी की नाव बनाई,
चंदन की पतवार बनाई,
लोहे की जंजीर नाव पानी में छोड़ दई….

कौन नाव में बैठने वाले,
कौन नाव को खेवन हारे,
कौन लगावे बेड़ा पार नाव पानी में छोड़ दई…..

सीता माता बैठन वारी,
लक्ष्मण भैया खेवन हारे,
राम लगावे बेड़ा पार नाव पानी में छोड़ दई……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा
कूर्म जयंती

गुरूवार, 23 मई 2024

कूर्म जयंती
नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी

संग्रह