माँ अम्बे मेरी शेरोंवाली शरण में तेरी आए हैं,
तू सब पे दया करने वाली शरण में तेरी आये हैं,
माँ अम्बे मेरी शेरोंवाली शरण में तेरी आए हैं,
तू सब पे दया करने वाली शरण में तेरी आये हैं,
माँ अम्बे मेरी शेरोंवाली, शरण में तेरी आए हैं…….

जो दर पे सीस झुकाते हैं, झुकाते हैं,
माँ वो झोलियाँ भर ले जाते हैं, जाते हैं,
माँ तेरे दर से न जाये कोई खाली,
शरण में तेरी आये हैं माँ अम्बे मेरी शेरोंवाली,
शरण में तेरी आये हैं माँ अम्बे मेरी शेरोंवाली,
शरण में तेरी आए हैं…….

माँ जग में न कोई हमारा है, हमारा है,
तेरा दर प्राणों से प्यार है, प्यार है,
तू ही वैष्णो माँ तू ही काली शरण में तेरी आये हैं,
माँ अम्बे मेरी शेरोंवाली शरण में तेरी आए हैं,
माँ अम्बे मेरी शेरोंवाली शरण में तेरी आए हैं……

तेरी शक्ति का न कोई पार है पार है,
तेरे चरणों में गंगा की धार है धार है,
तू ही सब जग को रचने वाली, रचने वाली,
शरण में तेरी आये हैं माँ अम्बे मेरी शेरोंवाली,
शरण में तेरी आए हैं माँ अम्बे मेरी शेरोंवाली,
शरण में तेरी आए हैं…….

माँ तूने ध्यानु भगत को तारा था, तारा था,
महिषासुर को भी मारा था, मारा था,
माँ तेरे रूप अनेक महाकाली शरण में तेरी आये हैं,
माँ अम्बे मेरी शेरोंवाली शरण में तेरी आए हैं,
माँ अम्बे मेरी शेरोंवाली शरण में तेरी आए हैं,
हाँ तू सब पे दया करने वाली शरण में तेरी आये हैं,
माँ अम्बे मेरी शेरोंवाली शरण में तेरी आए हैं…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती

संग्रह