तर्ज – साथिया नहीं जाना

तेरे जैसा दानी , ना जग में हुआ ।
दर तेरे जो भी आया, मालामाल हुआ ।।

1- तेरे चरणों की रज का जादू देखा है मैंने बाबा- मेरे सांवरे
हार के जो भी आया, संग उसके चला ।।
दर तेरे जो भी आया…

2- नेता अभिनेता आते चौखट पे शीश नवाते – मेरे सांवरे
टाटा कोई अंबानी, कोई बिड़ला हुआ ।
दर तेरे जो भी आया…

3- छोटो सो चाकर थारो, इस चरण चाकरी दे दे, मेरे सांवरे
किंशुक तेरे नाम का, अब बावरा हुआ।
दर तेरे जो भी आया…

तेरे जैसा दानी , ना जग में हुआ ।
दर तेरे जो भी आया, मालामाल हुआ – 2 ।।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती
संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा

संग्रह