चलो रे खाटू की नगरी ,जहां पे रहता बाबा श्याम है-2

हारे का सहारा है वो ,हारे का सहारा है वो,
जग में उसका नाम है,
चलो रे खाटू की नगरी ,
जहां पे रहता बाबा श्याम है…..

सुंदर मुखड़ा श्यामा का, बड़ा ही प्यारा लगता है,
सारी दुनिया फीकी लागे, जब मेरा बाबा सजता है,
दिल से पुकारे श्याम को जो-2,बनाता उसके काम है।
चलो रे खाटू की…..

सेठों का सेठ है ये , लखदातार कहलाता है,
शीश का दानी बाबा मेरा , बिगड़ी बात बनाता है ,
अंदाज है बाबा का निराला ,इसकी क्या ही बात है,
चलो रे खाटू की…..

कृष्णा खन्ना ने गुण गाके , बाबा को रिझाया है
है लाडला खाटू वाले का , भजन रजत से लिखवाया है
जिसे हारे का सहारा कहते ,वो मेरा बाबा श्याम है,
चलो रे खाटू की…..

चलो रे खाटू की नगरी ,
जहां पे रहता बाबा श्याम है
हारे का सहारा है वो-2
जग में उसका नाम है
चलो रे खाटू की नगरी ,
जहां पे रहता बाबा श्याम है…..।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती
पुत्रदा एकादशी

शुक्रवार, 16 अगस्त 2024

पुत्रदा एकादशी

संग्रह