कभी भूलू ना, कभी भूलू ना….
कभी भूलू ना याद तुम्हारी रटू,
तेरा नाम मैं साँझ सवेरे,
राधा रमण मेरे, राधा रमण मेरे….

सिर मोर मुकुट कानन कुण्डल,
दो चंचल नैन कटारे,
मुख कमल से भवरे बने केश,
लहराये काले काले,
हो जाओ प्रकट मम हृदय मे,
करो दिल के दूर अन्धेरे,
राधा रमण मेरे, राधा रमण मेरे….

गल सोहे रही मोतिन माला,
अधरो पर मुरली सजाए,
करे घायल तिरछी चितवन से,
मुस्कान से चैन चुराये,
हो भक्तो के सरताज किन्तु,
राधा रानी के चेरे,
राधा रमण मेरे, राधा रमण मेरे….

अपने आँचल की छाया मे,
करूणा मे मुझे छिपा लो,
मैं जन्म जन्म से भटका हूँ,
हैं नाथ मुझे अपना लो,
प्राणेश रमण तुम संग मेरे,
हैं जन्म जन्म के फेरे,
राधा रमण मेरे, राधा रमण मेरे….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह