म्हारा मां गौरी का लाल गजानंद आंगन आया जी,
आंगन आया जी, गजानंद आंगन आया जी,
म्हारा मां गौरी का लाल गजानंद…………….

पान चड़ाऊ फूल चड़ाऊ और चड़ाऊ मेवा जी,
लडूवन का तो भोग लगाऊं, श्री गनराया जी,
म्हारा मां गौरी का लाल गजानंद……..

रिद्धि मनाऊं सिद्धि मनाऊं और मनाऊं मां गौरा जी,
शिव शंकर का ध्यान लगाऊं प्रथम ध्यावा जी,
म्हारा मां गौरी का लाल गजानंद…….

द्वार सजावा कलश सजावा बंदनवार लगावां जी,
धूप दीप और करा आरती मंगल गावां जी,
म्हारा मां गौरी का लाल गजानंद आंगन आया जी,
आंगन आया जी, गजानंद आंगन आया जी,
म्हारा मां गौरी का लाल गजानंद……..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह