अब के मोहन मैं पहनूंगी प्यारी चूड़ी सतरंगी,
चूड़ी पहन जब घर से निकलू सखियां देखे खड़ी-खड़ी,
अब के मोहन मैं पहनूंगी प्यारी चूड़ी सतरंगी…..

बागों में वह श्यामा मिल गए, चूड़ी राधे कहां गई,
फुलवा तोड़ने में मेरे कान्हा, चूड़ी मेरी मोड़ गई,
अब के मोहन मैं पहनूंगी प्यारी चूड़ी सतरंगी…..

जमुना तट पर श्यामा मिल गए, चूड़ी प्यारी कहां गई,
जमुना नहाते नहाते कान्हा, चूड़ी मेरी मोड़ गई,
अब के मोहन मैं पहनूंगी प्यारी चूड़ी सतरंगी…..

पनघट पे मोहे कान्हा मिल गए, चूड़ी गुजरिया कहां गई,
गगरी भरते उठाते कान्हा, चूड़ी मेरी मोड़ गई,
अब के मोहन मैं पहनूंगी प्यारी चूड़ी सतरंगी…..

मधुबन में मोहे श्यामा मिल गए, चूड़ी जोगन कहां गई,
ऐसा नचाया तुमने कान्हा, चूड़ी मेरी मोड़ गई,
अब के मोहन मैं पहनूंगी प्यारी चूड़ी सतरंगी…..

मंदिर में मोहे कान्हा मिल गए, चूड़ी राधे कहां गई,
देखत देखत तुमको कान्हा, चूड़ी मेरी मोड़ गई,
अब के मोहन मैं पहनूंगी प्यारी चूड़ी सतरंगी…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह