दगा किसी का सगा नहीं है, किया नहीं तो कर देखो,
जिस जिस ने भी दगा किया है जाकर उसका घर देखो,
दगा किसी का सगा नहीं है…..

दगा किया था रावण ने जब साधु भेस बनाया था,
भिक्षा लेने गया था लेकिन सीता ही हर लाया था,
लंका नगरी राख बनाया पल भर में हनुमत देखो,
जिस जिस ने भी दगा किया है जाकर उसका घर देखो…….

कौरव पांडव जुआ खेले शकुनी पासे फेंक रहा,
दुर्योधन की चालाकी को बो नटनागर देख रहा,
बिना शत्रु के बंस मिटाया लीला नटवर की देखो,
जिस जिस ने भी दगा किया है जाकर उसका घर देखो…….

किसी को धोखा देकर प्यारे एक बार खुश हो जाना,
कर्म की अग्नि में जल करके फिर जीवन भर पछताना,
सच्चा सुख पाने की खातिर भला किसी का कर देखो ,
जिस जिस ने भी दगा किया है जाकर उसका घर देखो…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह