कहो कैसे तेरी बन जाऊं रसिया,
बन जाऊं रसिया गुण गांव रसिया,
कहो कैसे तेरी बन जाऊं रसिया….

गुणवान नहीं धनवान नहीं,
कोई बड़ों जगत में मान नहीं,
फिर काहे तोहै रिझाऊं रसिया,
कहो कैसे तेरी बन जाऊं रसिया…..

कोई जप तप सैयम नियम नहीं,
मेरा गोपियों जैसा प्रेम नहीं,
फिर किस विध तोहै रिझाऊं रसिया,
कहो कैसे तेरी बन जाऊं रसिया…..

कोई ज्ञान भरा भंडार नहीं,
मेरा मीरा जैसा प्यार नहीं,
फिर कैसा प्यार दिखाऊं रसिया,
कहो कैसे तेरी बन जाऊं रसिया……

मेरे भीलनी जैसे बेर नहीं,
तेरे आने में तो देर नहीं,
फिर काहे से भोग लगाऊं रसिया,
कहो कैसे तेरी बन जाऊं रसिया…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती

संग्रह