कन्हैया आए मेरे द्वार रे,
मैं तो लाज़ के मारे, डूबी डूबी जाउँ,
कन्हैया आए मेरे द्वार रे…..

कहती है मीरा बली बली जाऊँ,
पइयाँ पडू या नैना बिछाऊँ,
कैसे करूँ इजहार,
आये मेरे द्वार रे,
कन्हैया आए मेरे द्वार रे….

उनका हुआ है मुझको दर्शन,
मुझको किया है आज सुहागन,
पूरा हुआ सिंगार,
आये मेरे द्वार रे,
कन्हैया आए मेरे द्वार रे..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती

संग्रह