है महिमा अपरम्पार, लीन्हों कृष्ण प्रेम अवतार।
लीन्हों कृष्ण प्रेम अवतार, दीन्हों सब भक्तन को प्यार।।

1- भांदव की अष्टमी है, काली आधी रात है।
बादल गरज रहें हैं होती बरसात है।।
यमुना करती चरन पखार, मैं तो धन्य हुई सरकार ।।

2- देवकी वसुदेव के जाए, नंद यशोदा लाल कहाए।
गोपिन संग रास रचाने , गोकुल में कान्हा आए।।
करता दर्शन यह संसार, किरपा कर दो मदन मुरार।।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह