सखी ऐसा मचा हुड़दंग,लट्ठमार होली में
रस बरसे बरसे रंग, लट्ठमार होली में

  1. ऐसी मची बरसाने होरी
    भीग गयो री मेरे दामन चोली
    मेरे भीग गयो री अंग अंग,लट्ठमार होली मे
  2. धिरकी पायल लगा नो ठुमका
    नक नथनी मेरो गिर गया झुमका
    मेरे गिर गयो बाजू बंद, लट्ठमार होली में
  3. लटक मटक मोहे पकड़ों सांवरीया
    खुल गई वेणी उड़ गई चुनरीया
    मेरी उतर गई सब भंग, लट्ठमार होली में
  4. अब तो ‘मधुप’ हरि रंग रचुंगी
    सास नंनद से नाहीं डरुंगी
    हरिभजन करुंगी सत्संग, लट्ठगार होली में
Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह