( सांवरा ने ढूंढन में गई , कर जोगन रो वेश,
ढूंढत ढूंढत जुग भया, आया धोला केश॥ )

संवारा थारी माया रो,
पायो कोनी पार,
भेद कोनी जाणु वो,
दयालु दीना नाथ….

गव रा जाया बेलिया,
कमावे दिन ने रात,
बूढ़ा कर के बेचे रे,
दयालु दीना नाथ,
संवारा थारी……

इन्दर कोप कियो ब्रज ऊपर,
बरसियो मूसलधार,
नख पर गिरधर धरियो वो,
दयालु दीना नाथ,
संवारा थारी……

हिरना कस्यप प्रह्लाद ने बरज्यो,
बरज्यो बारम्बार,
राम नाम नहीं लेणा वो,
दयालु दीना नाथ,
संवारा थारी……

विष रा प्याला राणो भेजिया,
दीज्यो मीरा ने जाय,
विष अमृत कर डालियो वो,
दयालु दीना नाथ,
संवारा थारी……

बाई मीरा री अरज विनती,
सुण ज्यो सिर्जन हार,
में चरणा री दासी वो,
दयालु दीना नाथ,
संवारा थारी……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती

संग्रह