केहड़ी ए लाचारी तैनू भेद नहियो खोलदी,
दस मेरी माँ,, जय हो,
तू मेरे नाल क्यों नि बोलदी।

मैं वार वार तक्का तेरी मूर्ति दे वल माँ,
तू भी तक्के मैनु जदो केहड़ा होना पल माँ,
सांभ लई माँ, मेरी बेड़ी पई डोलदी,
दस मेरी माँ,, जय हो,
तू मेरे नाल क्यों नि बोलदी……

बच्चे जदो रूस जान, मावा ने मनाउंदिया,
तेरे वांग दाती ऐंवे भूल नहियो जांदिया,
मावा दिया अखां, रेह्न्दियाँ बच्चियां नू टोलदिया,
दस मेरी माँ,, जय हो,
तू मेरे नाल क्यों नि बोलदी……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती

संग्रह