हे माँ करु बेनती तुझसे, घर को मेरे सुख से भर दे,
दुख आये ना मन मे, हे नारायणी ऐसा वर दे,
हे माँ करु बेनती तुझसे, घर को मेरे सुख से भर दे,
दुख आये ना मन मे, हे नारायणी ऐसा वर दे……

तू अम्बे तू जगदम्बे माँ तू जग पालनहारी है,
क्या बोलु इन काधों पर कितनी जिम्मेदारी है,
मै मागंता हुँ माँ तुझसे आसान मेरा पथ कर दे,
हे माँ करु बेनती तुझसे, घर को मेरे सुख से भर दे,
दुख आये ना मन मे, हे नारायणी ऐसा वर दे……

मन का अन्धेरा मिट जाये ऐसी ज्योत जगा दे देना,
दास करे अरदास यही बिगड़े काज बना देना,
तेरी कृपा से हट जाये अज्ञान के सारे परदे,
हे माँ करु बेनती तुझसे, घर को मेरे सुख से भर दे,
दुख आये ना मन मे, हे नारायणी ऐसा वर दे……

दुख तपदे जीवन को निर्मल छाया देती है,
बिन बोले ही माँ मेरी हर चिन्ता हर लेती है,
मै भी तेरे दर पर आया ऐसी दया कर दे,
हे माँ करु बेनती तुझसे, घर को मेरे सुख से भर दे,
दुख आये ना मन मे, हे नारायणी ऐसा वर दे……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह