मांगता ना सोना चांदी बांगला मैं कार जी,
मेहनत का मांगै सै फल मैया जमीदार जी……..

खेता के महा बीतै मैया जीवन जमीदार का,
होजा फसलअच्छी होजा मौसम बहार का,
टाइम पे मैं पाणी होजा करियो उपकार जी……….

डांगर घणे राखे मैया खैर राखियो सबकी,
अच्छा बिकजा दूध घी साल मैयाअबकी,
चालजा कुछ घर का कर्जा टाबर पीले धार जी……

माट्टी के महा रुलजा ना कदे मेहनत जमीदार की,
खोलदे तू आँख मैया सारे संसार की,
दाल रोटी का माँ सागर मांगै रोजगार जी…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह