साडे घर जगराता माँ दा,
माँ दा लख लख शुकर मनाईये,
माँ दा रज रज दर्शन पाईये,
माँ दे खुल्ले दर्शन पाईये…..

माँ दी किरपा नाल मौका खुशियाँ वाला आया,
मेहरावाली मेहर है कित्ती,
साडा भाग जगाया,
छड्ड के चिंता दुनिया दी,
हुन चित चरणा विच लाईये,
माँ दा लख लख शुकर मनाईये,
माँ दा रज रज दर्शन पाईये……

महारानी कल्याणी अपनी मुझ विच आउंदी,
फिर अपने भगता दे घर विच,
मईया रानी खुश हो जावे,
रल मिल भेंटा गाईये,
माँ दा लख लख शुकर मनाईये,
माँ दा रज रज दर्शन पाईये…..

पल ना देर लगाओ भक्तो,
मंगलो जो भी मंगना,
माँ ने अपने बच्चियां नू,
रंगा दे विच रंगना,
कहंदा रोपड़ वाला जीवन,
माँ दा लख लख शुकर मनाईये,
माँ दा रज रज दर्शन पाईये…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह