भजले बंदे राम पत्थर की करले छाती रे……

दादा तो पोते से बोला सुन पोते मेरी बात रे,
एक दही का प्याला लादे रोटी ला दे ताती रे,
भजले बंदे राम पत्थर की करले छाती रे……

पोता तो मम्मी से बोला सुन मम्मी मेरी बात रे,
बाबा तो मेरा रोटी मांगे वह भी मांगे ताती रे,
भजले बंदे राम पत्थर की करले छाती रे……

मम्मी तो बेटा से बोली सुन बेटा मेरी बात रे,
सेवा कर कर हारी याकी मिलती नहीं भलाई रे,
भजले बंदे राम पत्थर की करले छाती रे……

बाहर से वह बेटा आया सुन बेटा मेरी बात रे,
तेरी बहू मुझे बुड्ढा बोले गए घरों की आई रे,
भजले बंदे राम पत्थर की करले छाती रे……

बेटा तो पापा से बोला सुन पापा मेरी बात रे,
मारु तो ये बाज ना आवे जाकर खाले फांसी रे,
याने याने बालक मेरे को लगावे छाती रे…..

पापा तो बेटा से बोला सुन बेटा मेरी बात रे,
चार दिनों की जवानी तेरी फिर आएगा बुढ़ापा रे,
भजले बंदे राम पत्थर की करले छाती रे…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी

संग्रह