भोले बाबा तेरा मुस्कुराना,
भूल जाने के काबिल नहीं है,
रूप तेरा है ऐसा सलोना,
जो बताने के काबिल नहीं है……

माथे ते चंद्रमा जगमगाता,
सत्य का पथ जगत को दिखाता,
गंग की थार बहती जटा से,
जो बताने के काबिल नहीं है,
भोले बाबा तेरा मुस्कुराना……….

माथे पर तूने तिरपुण्ड धारा,
रूप तेरा लगे प्यारा प्यारा,
नाग सोहै गले में तुम्हारे,
जो बताने के काबिल नहीं है,
भोले बाबा तेरा मुस्कुराना……….

भस्म तन पे तुम्हारे लगी है,
सामने धूनी जग मग जगी है,
राजेंद्र मृगछाला तन पर लपेटे,
जो बताने के काबिल नहीं है,
भोले बाबा तेरा मुस्कुराना……….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा
कूर्म जयंती

गुरूवार, 23 मई 2024

कूर्म जयंती
नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी

संग्रह