द्वारे नंद रे…
शंकर ने नाद बजाया द्वारे नंद रे
शिवजी ने नाद बजाया द्वारे नंद रे
नाद बजाया हरि के गुण गाया…
मेरे शंकर ने नाद बजाया द्वारे नंद रे

नंद मेहला से आयी नंद रानी, मोती थाल सजाया
ले भिक्षा बाबा घर जा अपने, तें मेरा बालक डराया
द्वारे नंद रे…

क्या करनी तेरी दोलत दुनिया, क्या करनी तेरी माया
बालक अपने रा मुख तू दिखायी दे,
शिव कैलाशों ते आया…
द्वारे नन्द रे…

रो रो हारी नगरी सारी , श्याम ने सभी को रुलाया
कोई तो कान्हा जो चुप करायी दे, योगी ने जादू चलाया…
द्वारे नंद रे…

बोलेया भोला यशोदा रानी, तें क्यों जुल्म कमाया
दर्शन करने में कृष्ण कन्हैया रे, नंगे पाँव कैलाश ते आया
द्वारे नंद रे…

बोलो शंकर भगवान की जय
हर हर महादेव

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 05 मई 2024

प्रदोष व्रत

संग्रह