जब मोज में भोला आये,
डमरुँ हो मगन बजाये,
खोले जटाएं छाए घटाए
बदरा बरसे जम जम,
भोले रे भोले भोले बम बम…….

जेले के टोले ले संग भोले
नाँचे रे मगन मसाने में,
भंग की तरंग में अपने ही
रंग में मेला लगा ले वीराने में,
धरती आकाश हिलाए
नंदी जब नाद सुनाएं,
अरे कैलाश घुमे रे संसार झूमे रे
बाजे नगाड़े बम बम,
भोले रे भोले भोले बम बम…….

ना कोई रोके रे ना कोई टोके रे,
बम लेहरी बम बम लहरी,
क्या किसको देना है,
क्या किस से लेना है,
शिव जाने बाते ग़हरी,
शिव लीला समझ ना आये,
नित नए ये खेल रचाये,
शिव ही सजाये शिव ही सुनाये,
सांसो की ये सरगम,
भोले रे भोले भोले बम बम…….

जब मोज में भोला आये,
डमरुँ हो मगन बजाये,
खोले जटाएं छाए घटाए
बदरा बरसे जम जम,
भोले रे भोले भोले बम बम…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मोहिनी एकादशी

रविवार, 19 मई 2024

मोहिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 19 मई 2024

प्रदोष व्रत
प्रदोष व्रत

सोमवार, 20 मई 2024

प्रदोष व्रत
नृसिंह जयंती

मंगलवार, 21 मई 2024

नृसिंह जयंती
वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा

संग्रह