नचना गाउना नाम ध्याउना, सब भगती दे रंग,
भोलेया,, भोलेया,
भोलेया, दर तेरे नचदे मस्त मलंग,
भोलेया, दर तेरे नचदे मस्त मलंग……

समझ के भंग प्रशाद जिहना ने भगतो मुँह नू लायी,
खुशियां दे विच नीतू पई नचे, ऐसी मस्ती छायी,
लोकी मैनु कमली दसदे ना लगदी ए संग,
भोलेया,, भोलेया,
भोलेया, दर तेरे नचदे मस्त मलंग,
भोलेया, दर तेरे नचदे मस्त मलंग……

तेरे मस्ता उत्ते भोलेया परिया दिल बरसावन,
सूरज चन्न सितारे भी आसमानी भंगड़े पावन,
इंझ लगदा ए पुरे जग ने पी रखी ए भंग,
भोलेया,, भोलेया,
भोलेया, दर तेरे नचदे मस्त मलंग,
भोलेया, दर तेरे नचदे मस्त मलंग……

चरणा दे नाल लाके रख लै, पिंड सैने वाला,
खुशियां दे नाल झोली भरदे, लाई ना शम्भु टाला,
हसदे वसदे ज़िंदगी लंग जाए, एहो नीतू दी मंग,
भोलेया,, भोलेया,
भोलेया, दर तेरे नचदे मस्त मलंग,
भोलेया, दर तेरे नचदे मस्त मलंग……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह