मेरे महाकाल की नजरो में जो भक्त उतर जाता है,
कितना भी गहरा सागर हो पार उतर जाता है,
डूबती हुई कश्ती भी पार हो जाये,
नज़र महाकाल की एक बार जो हो जाए…..

मेरे महाकाल की तो बात ही निराली है,
किया उद्धार उनका जिनपे नज़र डाली है,
मेरे त्रिकाल का आधार जो हो जाए,
नज़र महाकाल की………..

जो भक्त बस गए महाकाल की निगाहों में,
बिछाता फुल महाकाल उनकी रहो में,
चाहे जग में दुश्मन हजार हो जाए,
नज़र महाकाल की………..

भक्ति और भाव से जो भोले का गुणगान करें,
कल्याणकारी बाबा भक्तो का कल्याण करें,
जिंदगी का सपना साकार हो जाए,
नज़र महाकाल की…………

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 05 मई 2024

प्रदोष व्रत

संग्रह