पर्वत पर झूला डलाई रे भोले बाबा तुमने,
चंदन की पत्नी रेशम की डोरी,
सखियां झूलन आई रे भोले बाबा तुमने,
गौरा झूलन आई रे भोले बाबा तुमने…….

ब्रह्मा संग ब्रह्माणी आई,
अमवा की डाली पर झूला डलाई,
झूले गौरा संग ब्रह्माणी रे भोले बाबा तुमने,
गौरा झूलन आई रे भोले बाबा तुमने…….

विष्णु संग लक्ष्मी जी आई,
अमवा की डाली पर झूला डलाई,
झूले लक्ष्मी संग गौरा रानी रे भोले बाबा तुमने,
गौरा झूलन आई रे भोले बाबा तुमने…….

संग गोरा रानी आई,
अमवा की डाली पर झूला डलाई,
झूले सखियां सारी रे भोले बाबा तुमने,
गौरा झूलन आई रे भोले बाबा तुमने…….

रामा संग सीता जी आई,
अमवा की डाली पर झूला डलाई,
झूले सीता संग गौरा रानी रे भोले बाबा तुमने,
गौरा झूलन आई रे भोले बाबा तुमने…….

कान्हा संग राधा रानी आई,
कदम पेड़ पर झूला डलाई,
झूले राधा संग गौरा रानी रे भोले बाबा तुमने,
गौरा झूलन आई रे भोले बाबा तुमने…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी

संग्रह