भजन करो भाई हरि का सुखदाई,
ओ ही पार करे उद्धार करे, जिसने भी लगन लगाई।
भजन करो भाई…..

भक्तो की प्रभु सुनते है सदा,
भक्तो को तारने आए थे,
जंगल में भीलनी सबरी के,
ओ झूठे बेर भी खाए थे,
करुणा के धाम ओ है श्रीराम रघुकुल के है रघुराई,
भजन करो भाई……

केवल दो कच्चे धागों से,
द्रोपति ने बांधा था बंधन,
द्रोपति ने ध्यान लगाया तब,
जब हो रहा था चीर हरण,
जल्दी से ओ आए अपनी लीला दिखाए, बहना की लाज बचाई,
भजन करो भाई हरि का सुखदाई……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 05 मई 2024

प्रदोष व्रत

संग्रह