उलझनों की ये सुलझे लड़ी
तू राम भजले, ओ श्याम भजले
तू नाम भजले घड़ी दो घड़ी”

नाम सुमिरन का धन साथ देगा,
जगकी माया क्या कब रूठ जाए।
एक पल का भरोसा नहीं है,
सांसों का तार ना कब टूट जाए।
जिन्दगी मौत के दर खड़ी
तू राम भजले, ओ श्याम भजले,
तू नाम भजले घड़ी दो घड़ी।।
उलझनों की ये सुलझे लड़ी….

साफ दिखेगी सूरत प्रभु की,
मन के दर्पण का तुम मैल धो लो।
ओ सबके दिल गंगा जल से लगेगे,
अपने मन की कपट गाँठ खोलो।
छोड़कर सारी धोखाधड़ी,
तू राम भजले, ओ श्याम भजले,
तू नाम भजले घड़ी दो घड़ी,
उलझनों की ये सुलझे लड़ी….

सौप प्रभु पे सकल उलझनें तू,
ग्रस्त चिंता में क्यों तेरा मन है।
संपदा, सुख, सुयश देने वाला,
एक यहीं तो हरी का भजन है।
तू नाम जपले ये दौलत बड़ी
तू राम भजले, ओ श्याम भजले,
तू नाम भजले घड़ी दो घड़ी।।
उलझनों की ये सुलझे लड़ी….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह