है कलयुग का राजा वह शीश का दानी ।।
सारी दुनिया हुई है मेरे श्याम की दीवानी।।

सारे जग में खाटू वाले श्याम का डंका बाज रहा ।
खाटू धाम से बैठा वह भक्तों के काज सवार रहा॥-2

विश्वास उसको यह हो रहा है,श्याम का प्रेमी वो बन गया है,
देता है जो हारे को सहारा,वही लगे श्री श्याम को प्यारा,
सच्चे प्रेमी की करता है हरदम यह निगरानी,
है कलयुग का राजा वह…..

गली गली और गांव गांव में एक यही जयकार है।
खाटू वाले श्याम धनी का सच्चा यह दरबार है॥-2
सच्ची पुकार हो तो दर पर बुलाये,सोए हुए उसके भाग्य जगाए,
श्याम प्रभु को दिल से बुला लो,सोए हुए अपने भाग्य जगा लो,
श्याम ही है आधार जगत में -2, श्याम ही तारण हारी,
है कलयुग का राजा वह…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह