सब पे तेरी दया का नूर बरस रहा है,
फिर क्यूँ दयालु ये दास तरस रहा है।
देखकर दशा मुझ दीन की,ना किनारा कीजिये ,
मेरी भी होगी सुनाई इतना तो इशारा कीजिये।

तूने लाखों की-2 बिगड़ी सँवारी प्रभु ‘
कब आएगी बतादो मेरी बारी प्रभु ,
मेरी बारी प्रभु इक बारी प्रभु ,
कब आएगी बतादो मेरी बारी प्रभु।

सब्र करने की बाबा इन्तेहां हो गयी-2
धीर धरने की अब मुझमें शक्ति नहीं ,
मेरी ओर-2 ज़रा देखो एक बारी प्रभु ,
कब आएगी बतादो मेरी बारी प्रभु।

तेरी रहमत अगर हो जाएगी -2 ,
सूखी डाली हरी हो जाएगी ,
अब खिलादो-3 मेरी भी फुलवारी प्रभु ,
कब आएगी बतादो मेरी बारी प्रभु।

अपना सुख दुःख तुझी को सुनाया है -2
तेरे आगे ही हाथों को फैलाया है ,
मेरी तुमसे-3 ही है रिश्तेदारी प्रभु।
कब आएगी बतादो मेरी बारी प्रभु।

माधव खाली जो चौखट से जाऊंगा-2
कैसे मुँह मैं जहां को दिखाऊंगा ,
तेरे कन्धों पे सारी जिम्मेदारी प्रभु।
कब आएगी बतादो मेरी बारी प्रभु।

मेरी बारी प्रभु इक बारी प्रभु ,
कब आएगी बतादो मेरी बारी प्रभु -2।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह