मेरी शेरोवाली माँ, शहंशाहों की शहंशाह,
सारे जग की मालिक है, झुकता हर कोई यहाँ,
मेरी शेरोवाली माँ……

इसकी चौखट पे जिसने, सर को अपने झुकाया,
मेरी अम्बे मईया का प्यार उसी ने पाया,
तू भी पाले खजाना रेहमत का यहाँ,
मेरी शेरोवाली माँ…..

श्रद्धा से आकर दर पे अपनी बात तू केहदे,
मिल जाएगी मुरादे दर पे, ये विश्वास तू करले,
तेरी रूठी खुशियों को मिलेगी ख़ुशी फिर यहाँ,
मेरी शेरोवाली माँ……

सरस्वती, लक्ष्मी, काली, बनजा इनका सवाली,
बिगड़े काम सारे काम बनेगे, भरेगी झोली खाली,
दीपक डर काहे का कुछ नहीं, मईया के बिना,
मेरी शेरोवाली माँ……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती

संग्रह