काली माँ, ज्योत जगाई है,
सवाली बन दर पे आये है,
आये सर को मैं झुकाने,
तेरे दर पे हो मईया रानी।।

सुन्दर है तेरा भवन,
सुन्दर ये स्वरुप है,
कोटि कोटि तुम्हे मेरा प्रणाम है,
जो भी तेरे दर पे आया,
वो ना कभी खाली गया,
तुम्ही हो खप्पर वाली,
काली माँ, ज्योत जगाई है…..

विनती करो मंजूर, तेरी शरण आया हु,
बालक हु माँ मैं तेरा, तेरी शरण आया हु,
तेरी महिमा गाता हूँ, तुमसे आस लगाता हु माँ,
शान तेरी है निराली,
काली माँ, ज्योत जगाई है…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह