सजा कर शेर मेरे घर आ,
सजा कर शेर मेरे घर आ,
सजा कर शेर मेरे घर आ,
मै बैठा दिल का आसन सजा,
सजा कर शेर मेरे घर आ,
सजा कर शेर मेरे घर आ……

मन का आसन कबसे है खाली,
आन विरोजो माँ मन्दिरो वाली,
तुम बिन ओर बसे ना कोई,
मेरे मन मंदिर में आ,
सजा कर शेर मेरे घर आ,
सजा कर शेर मेरे घर आ…..

पाप मिटा दो गिन गिन मेरे,
काम क्रोध में लाये डेरे,
अवगुण मेरे चित ना बसाओ,
दो चरणो मे जगह,
सजा कर शेर मेरे घर आ,
सजा कर शेर मेरे घर आ….

लग जाये मेरी ऐसी समाधी,
मन में रहे ना कोई व्याधी,
हर पल तेरा नाम जपु मै,
ऐसी करो कृपा,
सजा कर शेर मेरे घर आ,
सजा कर शेर मेरे घर आ…..

कण कण दर्शन करू तुम्हारा,
रोम रोम बोले जयकारा,
ध्यानु सा विश्वास जगा दो,
हम पे करो कृपा,
सजा कर शेर मेरे घर आ,
सजा कर शेर मेरे घर आ…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह