मेरे घजानंद महाराज करते हम तेरा अभिनंद
करते हम तेरा अभिनंद करते हाथ जोड़ कर वंदन
हो मेरे घजानंद महाराज करते हम तेरा अभिनंद

तुम भुधि ज्ञान के दाता देवा तुम हो भ्ग्ये विध्याता
करिए मेरे पूरण काज करते हम तेरा अभिनन्दन
मेरे घजानंद महाराज करते हम तेरा अभिनंद

जो गन गणपति गावे शारदा से शीश जुकावे
उसकी सदा बचाते लाज करते हम तेरा अभिनंद
मेरे घजानंद महाराज करते हम तेरा अभिनंद

प्रथमे जो तुम को ध्यावे वो मन वंचित फल पावे
हो सारे देवो के सरताज करते हम तेरा अभिनंद
मेरे घजानंद महाराज करते हम तेरा अभिनंद

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती

संग्रह