मेरे सपने में आईं अम्बे मात गजब करामात हो गई,
मेरे ज्ञान के खुले कपाट गजब करामात हो गई,
गजब करामात हो गई, गजब करामात हो गई ,
मेरे सपने में आईं अम्बे मात गजब करामात हो गई……

शेर पे सवार होकर मैय्या मेरी आईं,
मेरी मैय्या आईं मुझे बेटा बुलाईं,
मेरी माता ने२ की मुझसे बात गजब करामात हो गई,
मेरे सपने में आईं अम्बे मात गजब करामात हो गई………..

मेरी एक टेर पे वो दौड़ी चली आईं,
दौड़ी चली आईं मां विलंब न लाईं,
मां ने हरदम दियो मेरो साथ गजब करामात हो गई,
मेरे सपने आईं अम्बे मात गजब करामात हो गई…….

मेरी माता के रूप हैं निराले कोई कुष्मांडा कोई गौरा पुकारे,
नवरातों में किया उनका ध्यान गजब करामात हो गई,
मेरे सपने में आईं अम्बे मात गजब करामात हो गई……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती

संग्रह