एह चूहे राजा गणेशा से मेरी अब दोस्ती तू करा दे
तुझको खिलाऊ गी मेवे लड्डू इक बार उन से मिलवा दे
एह चूहे राजा गणेशा से मेरी अब दोस्ती तू करा दे

तुम हो गणेशा के सब से करीबी मेरे सखा हो मेरे खुश नसीबी
इक बार जो दोस्त बन जाये मेरे फिर मिल सकू गी कभी भी कही भी
अब जाके जल्दी से ले आओ बिठा के संग मुझे भी घुमा दे
एह चूहे राजा गणेशा से मेरी अब दोस्ती तू करा दे

इक बार तू देवा हमारे हर कोई बेठा है घर को सवारे
मंदिर हो सडके हो या गलियारे चारो तरफ है तेरे जयकारे
मुझको सताना जल्दी से आना देर न अब तू लगा रे
एह चूहे राजा गणेशा से मेरी अब दोस्ती तू करा दे

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह