तीन लोक गोरी लाल समाये रिधि सीधी तेरे गुण गाये
मिट जाए सकल गणेश जी
गनपत श्री गणेश जी गोरा के लाल गणेश जी

देवी देव तेरा करते वंदन सब से पेहले तुम को निमंत्रण
जो इनका नाम सिमर ता लिखते उस के लेख जी
गनपत श्री गणेश जी गोरा के लाल गणेश जी

मुसे के ये सवारी करते सब के दुखे आप है हरते,
माता पार्वती है इनकी पिता है जिनके महेश जी
गनपत श्री गणेश जी गोरा के लाल गणेश जी

पान सुपारी फूल चडाये लड्डूआ का तुमे भोग लगाये
अभिषेक करे तुम को मनाये
ब्रह्मा विष्णु महेश जी
गनपत श्री गणेश जी गोरा के लाल गणेश जी

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह