है गणनायक महाराज , म्हारे आँगन आवो आज
है गोरी सुत , गणराज ,म्हारे आँगन आवो आज
चारो ओर ,एक ही शोर , आओ है गणराज
शिव के दुलारे राखो ,तुम अब भक्तो की लाज
है गणनायक महाराज ….

हो ..आओ मूषक वाहन देवा , हाँ देवा
ओ गणराजा करा में थारी सेवा
रिद्धि और सिद्धि लाओ , हाँ लाओ
देवा आँगन में आकर रस बरसाओ
चारो ओर ,एक ही शोर , आओ है गणराज
शिव के दुलारे राखो , तुम अब भक्तो की लाज
है गणनायक महाराज ….

हो देवा , आनंद मंगल करजो , हाँ करजो
दुख संकट ने पल में बाबा हरजो
सुख सम्पति भरपूर दीजो , हाँ दीजो
बाबा भक्ता रे घर मे सदा ही रहजो
चारो ओर ,एक ही शोर , आओ है गणराज
शिव के दुलारे राखो ,तुम अब भक्तो की लाज
है गणनायक महाराज ….

महीना भादव का आया , हाँ आया
गणेश उत्सव का रंग घर घर में छाया
हो आये ” दिलबर ” ये गणराज , हाँ गणराज
कहे विक्रम ये भक्तो के सिरताज
चारो ओर ,एक ही शोर , आओ है गणराज
शिव के दुलारे राखो , तुमअब भक्तो की लाज
है गणनायक महाराज ….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह