नी मै गणपत गणेश मनावां, मनावां गौरा तेरे लाल नु,
नी मैं जयदेव जयदेव गावां मनावा गौरां तेरे लाल नु।

कारज विच शिव शंकर जी आए,
गौरां मां नाल ले आए।।
नी मैं रिद्धि सिद्धि नु बुलावां बुलावां गोरां तेरे लाल नु।
नी मैं जयदेव जयदेव गांव मनावां गौरां तेरे लाल नु।।

चंदन दी चौंकी था मैं असम लगावां,
घिस घिस चंदन दास तिलक बनावां,
नी मै मरे थे तिलक लगावां,लगावाने गौरांग तेरे लाल नु।
नी मैं जयदेव जयदेव गावां,मनावां गौरां तेरे लाल नु।।

चुन चुन फुलां था मैं हार बनावाने,
लड्डूओं दा मैं भोग मगावां,
नी मैं ये रज भोग लगावां,लगावां गौरांग तेरे लाल नु।
नी मैं जयदेव जयदेव गावां मनावां गौरां तेरे लाल नु।।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

गायत्री जयंती

सोमवार, 17 जून 2024

गायत्री जयंती
निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती
संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी

संग्रह