आ गये गौरा के प्यारे होए क्या बात हो गई,
मूसा वाले से यूँ ही मुलाकात हो गई ।।

बुद्धि के दाता वो भाग्य विधाता,
उनको जो ध्याता सुख पाता,
सुख देते हैं वो दुख हर लेते,
विद्या बुद्धि से सबकी झोली भर देते,
जिनने ध्याया उन्हें ,
सुख की बरसात हो गई
मूसा वाले से यूँ ही मुलाकात हो गई।।

मंगलकारी हैं बड़े हितकारी,
महिमा प्रभु की निराली,
सूँड़ लंबी है और काया भारी है,
नैन रतनारे उनकी छवि प्यारी है,
काली काली ये राते अब बरसात हो गई,
मूसा वाले से यूँ ही मुलाकात हो गई।।

दीन दयाला है वो एक दन्त वाला,
लंबोदर गज मुख वाला,
माथे चंदन मुकुट सर पे प्यारा है,
राजेन्द्र पावन भी उनका सबसे न्यारा है
उनके दर्शन से क्या करामात हो गई।
मूसा वाले से यूँ ही मुलाकात हो गई।।

आ गये गौरा के प्यारे होए क्या बात हो गई,
मूसा वाले से यूँ ही मुलाकात हो गई ।।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महेश नवमी

शनिवार, 15 जून 2024

महेश नवमी
गंगा दशहरा

रविवार, 16 जून 2024

गंगा दशहरा
गायत्री जयंती

सोमवार, 17 जून 2024

गायत्री जयंती
निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती

संग्रह