मात सिया को राम प्रभु से,
कौन मिलाने वाला, मेरा बजरंग बाला,
राम पे जब जब विपदा छायी,
कौन बचाने वाला, मेरा बजरंग बाला……

जितने भी काम थे मुश्किल हनुमत के ज़िम्मे आए,
हनुमान सिवा ना कोई सागर को लाँघना पाए,
रावण की सोने की लंका कौन जलाने वाला,
मेरा बजरंग बाला ओ मेरा बजरंग बाला….

जब शक्ति लगी लक्ष्मण को और मूर्च्छा भारी छाई,
घायल देखा लक्ष्मण को तो रोने लगे रघुराई,
संजीवनी लाकर लखन को,
कौन बचाने वाला, मेरा बजरंग बाला…..

विभीषण ताना मारे और हनुमत सह ना पाए,
भक्ति किसे कहते हैं ये सबको ज्ञान कराए,
भरी सभा में चीर के सीना कौन दिखाने वाला,
मेरा बजरंग बाला,
मात सिया को राम प्रभु से…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह