ऐसा चढ़ गया, श्याम का रंग,
मैं तो हो गया मस्त मलंग…..

श्याम ने तन मन में रंग डाल दिया,
अपने रंग में रंग डाला,
कहती है दुनिया मुझे,
ये तो है श्याम वाला,
श्याम के, श्याम के होके संग,
मैं तो हो गया मस्त मलंग…..

भगतो को ऐसा करिश्मा साई ने ऐसा दिखाया,
सापो को भी श्याम सुंदर ने, फूलो की माला बनाया,
सब देख के, सब देख के हो गए दंग,
मैं तो हो गया मस्त मलंग…..

श्याम ने ऐसी पिलाई, देता है दिल ये दुहाई,
श्याम से जाम मिला है, क्या खूब ये किस्मत पायी,
अब रंग में, अब रंग में ना डालो भंग,
मैं तो हो गया मस्त मलंग…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह