निगाहें फेर क्यों बैठे,
मेरा तो और ना कोई,
तुम्हारे लाखों दीवाने,
मेरा तो और ना कोई,
निगाहें फेर क्यो बैठे,
मेरा तो और ना कोई……

अगर तुम मुस्कुराते हो,
तो मैं भी मुस्कुराता हूँ,
मधुर बंशी बजाते हो,
तो मैं भी गुनगुनाता हूँ,
हँसाए तो मैं हँसता हूँ,
मेरा तो और ना कोई,
निगाहें फेर क्यो बैठे,
मेरा तो और ना कोई……..

तुम्हारे ही भरोसे तो,
मेरी ये ज़िंदगानी है,
मेरी तो प्रीत बस तुमसे,
तुम्ही को ही निभानी हैं,
कहूँ दिल की बता किस से,
मेरा तो और ना कोई,
निगाहें फेर क्यो बैठे,
मेरा तो और ना कोई…….

मैं रह भी पाउँगा कैसे,
हुए जो दूर तुम मुझसे,
इशारा तो करो कोई,
खता क्या हो गई मुझसे,
रुलाए क्यों मुझे लहरी,
मेरा तो और ना कोई,
निगाहें फेर क्यो बैठे,
मेरा तो और ना कोई…….

निगाहें फेर क्यों बैठे,
मेरा तो और ना कोई,
तुम्हारे लाखों दीवाने,
मेरा तो और ना कोई,
निगाहें फेर क्यो बैठे,
मेरा तो और ना कोई……..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह