आन बसो श्यामा मेरे मन मंदिर में,
मंदिर में हरि मंदिर में,
आन बसो श्यामा मेरे मन मंदिर में…..

टूटा फूटा मंदिर मेरा,
उसमें भी प्रभु घोर अंधेरा,
आकर दीप जलाओ मेरे मन मंदिर में,
आन बसो श्यामा मेरे मन मंदिर में…..

इस मंदिर में बहुत लुटेरे,
जुड़ने नहीं देते सामग्री,
इनको पकड़ो आन मेरे मन मंदिर में,
आन बसो श्यामा मेरे मन मंदिर में…..

सामग्री कुछ पास नहीं है,
दासी भी गुणवान नहीं हैं,
इनकी सुनो पुकार, मेरे मन मंदिर में,
आन बसो श्यामा मेरे मन मंदिर में…..

मंदिर मंदिर मूरत तेरी,
कहीं ना दिखे प्रभु सूरत तेरी,
आकर दरस दिखाओ, मेरे मन मंदिर में,
आन बसो श्यामा मेरे मन मंदिर में…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह