अरे मेरे बालापन के यार सुदामा कैसे आए,
सुदामा कैसे आए सुदामा कैसे आए,
अरे मेरे बालापन के यार सुदामा कैसे आए…..

तन्ने भारी कष्ट उठाए, तेरे पैरों पड़े हैं छाले,
अरे मैं पुछु बारम्बार सुदामा कैसे आए,
अरे मेरे बालापन के यार सुदामा कैसे आए…..

जब पैर सुदामा के धोये, छालों को देख कर रोए,
अरे वह तो मिल रहे भुजा पसार सुदामा कैसे आए,
अरे मेरे बालापन के यार सुदामा कैसे आए…..

जब आसन बीच बिठाए छत्तिशो भोग लगाएं,
अरे वह तो जीमे एक ही साथ सुदामा कैसे आए,
अरे मेरे बालापन के यार सुदामा कैसे आए…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह