बहार आई कान्हा तेरी नगरी में,
सजा है फूल बंगला तेरे मंदिरों में,
तेरे मंदिरों में, तेरे मंदिरों में,
बहार आई कान्हा तेरी नगरी में…….

वृंदावन की कुंज गलिन में,
हो रही चर्चा गली गली में,
भीड़ उमड़ी कान्हा तेरी नगरी में,
बहार आई कान्हा तेरी नगरी में…….

जो मैं होती कान्हा बेला चमेली,
मेहक रहती कान्हा तेरे बंगले में,
बहार आई कान्हा तेरी नगरी में…….

जो मैं होती कान्हा काली कोयलिया,
कुक रहती कान्हा तेरे बंगले में,
बहार आई कान्हा तेरी नगरी में…….

जो मैं होती कान्हा काली बदरिया,
बरस रहती कान्हा तोरे बंगले में,
बहार आई कान्हा तेरी नगरी में…….

जो मैं होती कान्हा तेरी राधिका,
मटक रहती कान्हा तेरे बंगले में,
बहार आई कान्हा तेरी नगरी में…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह