ब्रज में हो रही जय जयकार।
प्रकट भए बांके बिहारी लाल।।

स्वामी श्री हरिदास दुलारा। श्याम सिलोना बड़ा प्यारा।।
मधुर सुकोमल अंग रसीले, सुन्दर रूप रसाल।ब्रज में.
ब्रज में हो रही…………

निधिवन बरस रहे आनंदघन। छाया हर्षोल्लास वृंदावन।।
महक रहीं निकुंज लताएं, भंवर करें गुंजार।
ब्रज में हो रही…………

अनहद बाजे बाज रहे हैं। संत भगत जन नाच रहे हैं।।
मंगल गीत बधाईयां गांवे, झूम रहे नर नार।
ब्रज में हो रही…………

श्याम कुंज बिहारी जय जय। बांके बिहार लाल की जय जय।।
‘‘मधुप’’ आज प्रक्टै हैं ब्रज में, ब्रजमंडल सरकार।
ब्रज में हो रही…………।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह